मुथूट, एसबीआई, एचडीएफसी से कैसे लें गोल्ड लोन | Gold loan kaise milta hai

भारत में सोने को सबसे कीमती माना जाता है। इसलिए सोना खरीदना और शादी ब्याह में गिफ्ट के रूप में देना, हमारी पुरानी सांस्कृतिक परंपरा है। सोने के सिक्के, गहने, बिस्कुट पर ग्राम के हिसाब से बनाए जाते हैं।

अधिकतर लोग अपने कीमती सोने को बैंक लॉकर में रखते हैं जिसके कारण, उन्हें हर महीने bank locker का किराया देना पड़ता है।

यदि उसी सोने के बदले गोल्ड लोन लेते हैं तो उन्हें यूज करने के लिए पैसा भी मिल जाएगा और उनका गोल्ड भी बैंक के पास रहेगा।

Gold loan kaise milta hai?

पैसे की कमी को पूरा करने के लिए सोना एक बेहतरीन विकल्प माना जाता है। गोल्ड को बैंक में गिरवी रखकर gold loan लिया जा सकता है। जो मामूली सी कागजी कार्रवाई करने पर कुछ ही घंटों में मिल जाता है।

सोने के सिक्के, सोने के गहने, सोने के बिस्कुट आपके पास जो भी है उनको बैंक में गिरवी रखकर gold loan लिया जा सकता है। इसके लिए, किसी गारंटी की जरूरत नहीं पड़ती क्योंकि सोने को ही गारंटी के तौर पर रख लिया जाता है। 

आजकल लोग सोने को गिरवी रखकर गोल्ड लोन लेना पसंद करते हैं। गोल्ड लोन कभी भी किसी भी बैंक से आसानी से मिल जाता है। अनेक बैंक gold loan per gram के हिसाब से देने को तैयार है।

बैंक द्वारा गोल्ड को अपने पास लॉकर में सुरक्षित रख लिया जाता है। जब तक गोल्ड के बदले लिया गया लोन चुकाया नहीं जाता।

मुथूट फाइनेंस गोल्ड लोन कैसे मिलता है?

मुथूट फाइनेंस गोल्ड लोन लेने के लिए माहिर है। यदि आप muthoot finance gold loan लेना चाहते हैं तो आपको गोल्ड लोन पर रेट के हिसाब से मिल जाएगा।

मुथूट फाइनेंस लगभग 1 घंटे के अंदर पास करके आपको गोल्ड लोन देता है इसके लिए, आपके पास गोल्ड के सिक्के, गहने, बिस्कुट, आधार कार्ड और ओटीपी के लिए मोबाइल नंबर होना जरूरी है।

मुथूट फाइनेंस गोल्ड लोन जरूरी कागजात कौन से है?

  • आवेदक के 2 पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ।
  • आइडेंटिटी प्रूफ के लिए आधार कार्ड, पैन कार्ड, वोटर आईडी और पासपोर्ट।
  • एड्रेस प्रूफ के लिए इलेक्ट्रिसिटी बिल, टेलीफोन बिल और सरकारी दस्तावेज।
  • OTP वेरीफाई करने के लिए मोबाइल नंबर।

मुथूट फाइनेंस गोल्ड लोन इंटरेस्ट रेट क्या है?

गोल्ड लोन इंटरेस्ट रेट12% वार्षिक
प्रोसेसिंग चार्ज0.25% से 1%
प्री-क्लोजिंग चार्जकोई नहीं 

यह भी पढ़े – लोन पर फ़ोन कैसे लें

एसबीआई गोल्ड लोन कैसे मिलता है?

भारतीय स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया, सोने के सिक्के, गहने, बिस्कुट को गिरवी रखकर 50 लाख रुपए तक का gold loan देता है और लोन अमाउंट पर 0.25 प्रतिशत + GST के हिसाब से प्रोसेसिंग चार्ज लिया जाता है। 

SBI gold loan 7.50 प्रतिशत ब्याज दर कम से कम 12 महीने और अधिकतम 36 महीने की मासिक किश्तों में चुकाना पड़ता है।

एसबीआई गोल्ड लोन कौन से कागजात देने होंगे?

  • आवेदक के 2 पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ।
  • आइडेंटिटी प्रूफ के लिए आधार कार्ड, पैन कार्ड, वोटर आईडी और पासपोर्ट।
  • एड्रेस प्रूफ के लिए इलेक्ट्रिसिटी बिल, टेलीफोन बिल और सरकारी दस्तावेज।

एसबीआई गोल्ड लोन इंटरेस्ट रेट क्या है?

गोल्ड लोन इंटरेस्ट रेट7.50% वार्षिक
प्रोसेसिंग चार्ज0.25% + GST
प्री-क्लोजिंग चार्जकोई नहीं 

एचडीएफसी गोल्ड लोन कैसे मिलता है?

सोने के आभूषणों के बदले में एचडीएफसी बैंक भी लोन देता है। यदि आपका एचडीएफसी बैंक में सेविंग खाता है तो आप मिनिमम कागजी कार्रवाई में लोन ले सकते हैं।

एचडीएफसी बैंक से लोन लेने के लिए बैंक शाखा में विजिट करें। इसके अलावा, एचडीएफसी बैंक की वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन अप्लाई कर सकते हैं।

एचडीएफसी बैंक गोल्ड की मात्रा और उसकी गुणवत्ता के आधार पर कम इंटरेस्ट रेट वर्क गोल्ड लोन देता है।

एचडीएफसी गोल्ड लोन कौन से कागजात देने होंगे?

  • आवेदक के 2 पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ।
  • आइडेंटिटी प्रूफ के लिए आधार कार्ड, पैन कार्ड, वोटर आईडी और पासपोर्ट।
  • एड्रेस प्रूफ के लिए इलेक्ट्रिसिटी बिल, टेलीफोन बिल और सरकारी दस्तावेज।

एचडीएफसी गोल्ड लोन इंटरेस्ट रेट क्या है?

गोल्ड लोन इंटरेस्ट रेट8.95% वार्षिक
प्रोसेसिंग चार्ज1%
रिन्यूअल चार्ज 350 + applicable tax
प्री-क्लोजिंग चार्ज1% + applicable tax 

Gold loan लेने के क्या फायदे हैं?

  • गोल्ड लोन लेने के लिए गारंटी देने की जरूरत नहीं।
  • गोल्ड लोन लेने के लिए cibil score नहीं देखा जाता। 
  • गोल्ड लोन लेने के लिए मामूली कागजी कार्रवाई करनी पड़ती है।
  • बैंक द्वारा उसी दिन गोल्ड लोन पास करके पैसे अकाउंट में ट्रांसफर कर दिए जाते हैं।
  • पर्सनल लोन की अपेक्षा gold loan interest rate कम लगता है।
  • गोल्ड लोन समय से पहले चुकाने (foreclosure) पर पेनल्टी नहीं लगती।

Gold loan लेते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?

  1. गोल्ड लोन लेने के बाद ईएमआई पूरी ईमानदारी के साथ भरनी चाहिए। निर्धारित तारीख पर ईएमआई नहीं भरने पर जुर्माना लगाया जा सकता है।
  2. ग्रेस पीरियड 90 दिनों तक gold loan emi नहीं चुकाने पर कंपनी या बैंक द्वारा gold loan की राशि पूरी करने के लिए गिरवी रखे सोने को नीलाम कर सकते हैं।
  3. कई बैंक सोने की जांच करवाने के नाम पर valuation charge लगा देते हैं, इसके बारे में पता कर लेना चाहिए।
  4. यदि आप gold loan को बीच में बंद करवाना चाहते हैं तो कुछ बैंक प्री-क्लोजिंग के नाम पर चार्ज लगाते हैं। इसके बारे में भी बैंक अधिकारी से पहले ही जानकारी ले लेनी चाहिए।
  5. कई बैंक या कंपनी हर महीने ब्याज जमा करवाने का लालच देते हैं लेकिन आपको gold loan emi बनाना चाहिए ताकि निर्धारित समय में gold loan का निपटारा किया जा सके।